कुत्ता एक, मालिक दो : पुलिस के सामने ‘‘परीक्षा’, जिसके घर की ओर मुड़ा, उसी का होगा

काशीपुर : काशीपुर में दो लोगों के बीच दिर्फ़ सी बात को लेकर विवाद हो गया कि दोनों का कुत्ता एक ही दिन गायब हुआ और एक ही दिन दोनों को एक ही कुत्ता मिल गया. अब परेशानी ये है कि एक ही कुत्ते के दो-दो मालिक सामने आ गए हैं. फिलहाल मामला पुलिस के पास है. मामला काशीपुर के मोहल्ला शिवनगर के रहने वाले निर्मल सिंह वर्मा से शुरू होता है. दरअसल उनका पालतू लेब्राडोर नस्ल का कुत्ता टाइगर बीते 26 दिसंबर को अचानक लापता हो गया. परिजनों द्वारा इसे ढूंढ़ने का प्रयास किया गया, परन्तु नहीं मिल पाया जिसके बाद निर्मल सिंह ने कटोराताल चौकी में उसके खो जाने की तहरीर दी.
एक जैसा दीखता है कुत्ता
अभी कुत्ते को खोये हुए कुछ दिन ही हुए थे कि 12 जनवरी को काशीपुर के पंत पार्क के निकट के रहने वाले अमित ने अपने फेसबुक पर एक कुत्ते की फोटो शेयर करते हुए बताया कि उसको यह कुत्ता रेलवे क्रॉसिंग के पास मिला है, जिस किसी का हो सम्पर्क करें.उसी दिन अमित द्वारा शेयर की गई फोटो को निर्मल सिंह के पुत्र आनंद वर्मा ने देखा तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. क्योंकि वो तस्वीर उनके टाइगर की थी. वह तुरंत ही अपने भाई को साथ लेकर अमित की दुकान पर पहुंचे और उसकी पुरानी एक फोटो पहचान के रूप में दिखाकर उसे अपने घर ले गए.इस बीच नया मोड़ तब आया जब काशीपुर के ही आवास विकास के शुभ विहार के रहने वाले डॉक्टर अनुराग चौहान भी अमित के पास पहुंच गए और बताया कि जिस कुत्ते की फोटो शेयर की है, वह उनके पालतू कुत्ते ब्रूनी की है, जो आज सुबह ही घर से कही गायब हो गया है.
दो-दो मालिक

इस दौरान डॉक्टर अनुराग ने अमित को ब्रूनी की पुरानी फोटो भी दिखाई. फोटो देखने के बाद अमित का माथा ठनक गया, क्योंकि अनुराग द्वारा दिखाई गई यह फोटो भी हूबहू उस कुत्ते जैसी ही थी.अमित ने डॉ. अनुराग को बताया कि वह कुत्ता तो आनंद वर्मा के पास है. यह सुनकर डॉ. अनुराग शिवनगर स्थित निर्मल सिंह के घर पहुंच गए और उनका कुत्ता वापस करने की मांग करने लगे. दोनों ही पक्षों द्वारा अपना-अपना मालिकाना हक जताने से विवाद पैदा हो गया. जिसके बाद पहले मामला अपर पुलिस अधीक्षक राजेश भट्ट के संज्ञान में आने के बाद कोतवाली जा पहुंचा.

दोनों ही पक्ष कुत्ते के साथ पहुंच गए

कोतवाली में दोनों ही पक्ष कुत्ते के साथ पहुंच गए करीब दो घंटे की मेहनत के बाद जब वरिष्ठ उपनिरीक्षक एस.के कापड़ी मामले का समाधान नहीं निकाल पाए तो मामला कटोराताल चौकी इंचार्ज के पास पहुंच गया. जिसके बाद दोनों पक्षों की मौजूदगी में यह तय किया गया कि आज दिन में कुत्ते को दोनों ही पक्षों के घरों के मध्य स्थान पर छोड़ा जाएगा कुत्ता जिस पक्ष की तरफ जाएगा उसी का मालिकाना हक माना जायेगा. इस बात पर दोनों पक्षों की सहमति के बाद कुत्ते को कोतवाली में ही रखा गया. काशीपुर पुलिस कुत्ते की परीक्षा लेकर यह तय कर लेगी कि उसका असली स्वामी कौन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here