उत्तराखंड से बड़ी खबर : ब्लैक फंगस के 25 मामले आए सामने, एक ही मौत

उत्तराखंड से बड़ी खबर है। कोरोना के कहर के बीच अब उत्तराखंड में ब्लैक फंगस ने भी अपना जाल बिछा दिया है जी हां बता दीजिए ऋषिकेश एम्स में ब्लैक फंगस संक्रमित मरीजों की संख्या 25 हो गई है। सोमवार को उत्तर प्रदेश के उत्तर प्रदेश के छह, उत्तराखंड के दो मरीज भर्ती  किए गए हैं। वही बता दें कि ब्लैक फंगस से एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है जो कि राज्य में पहली मौत है.

एम्स ऋषिकेश के ब्लैक फंगस ट्रीटमेंट टीम के लीडर और इएनटी सर्जन डॉ. अमित त्यागी ने बताया कि सोमवार को सुबह उत्तर प्रदेश से दो और मरीज ऐसे यहां भर्ती किए गए हैं जो कोरोना के साथ ब्लैक फंगस संक्रमित हैं। शाम के वक्त छह मरीज और एम्स में भर्ती किए गए हैं। सोमवार को यहां भर्ती किये गए कुल मरीजों में पांच पुरुष और तीन महिला शामिल है। संबंधित मरीजों में उत्तर प्रदेश से छह और उत्तराखंड के रहने वाले दो मरीज हैं। अब एम्स में ब्लैक फंगस से ग्रसित रोगियों की कुल संख्या 25 हो गयी है।

उन्होंने कहा कि पिछले दस दिनों में सभी जगह इस तरह के मरीजों की संख्या तेजी से बड़ी है। 14 मई को देहरादून निवासी 36 वर्षीय एक मरीज की गंभीर अवस्था में मृत्यु हो गई थी। 15 डॉक्टरों की टीम इस तरह के मरीजों का उपचार और निगरानी कर रही है। ब्लैक फंगस संक्रमित मरीजों के लिए अलग से वार्ड बना दिया गया है। उन्होंने बताया कि 13 मरीजों को ऑपरेट किया जा चुका है, बाकी का उपचार चल रहा है। यहां भर्ती ब्लैक फंगस संक्रमण से संबंधित कुल 14 मरीज उत्तराखंड से हैं और 11 मरीज उत्तर प्रदेश से है।

डॉ अमित त्यागी ने बताया कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश में ब्लैक फंगस के मामले सामने आने के बाद एम्स प्रशासन ने यहां आने वाला मरीज कोरोना संक्रमित होने के साथ यदि डायबिटीज और हाइपरटेंशन का मरीज है तो उसकी ब्लैक फंगस जांच अनिवार्य कर दी गई है।

एम्स में अब तक भर्ती होने वाले मरीज की आरटी पीसीआर जांच की जाती थी। अब क्योंकि ब्लैक फंगस के मामले तेजी के साथ सामने आ गए हैं। इसलिए संक्रमित मरीज यदि पहले से डायबिटीज और हाइपरटेंशन से ग्रसित है तो उसके लिए ब्लैक फंगस की जांच अनिवार्य कर दी गई हैं। यह व्यवस्था सोमवार से लागू कर दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here