महिला कांस्टेबल का पुलिस अधिकारियों पर शोषण का आरोप,रो-रोकर बोली-मैं महिलाओं को क्या भरोसा दिलाऊंगी

लखनऊ। महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस के हाथ में हैं लेकिन अगर महिला पुलिस ही सुरक्षित न हो तो कैसे पुलिस से महिला सुरक्षा की उम्मीद की जा सकती है। जी हां इसका खुलासा खुद किया महिला कांस्टेबल ने जिसने अपना एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया है और रोरोकर मदद की गुहार लगाई है।

महिला कांस्टेबल ने यूपी पुलिस और प्रशासन के दावों की हवा निकाल दी है। महिला कांस्टेबल ने वायरल वीडियो में आरोप लगाया है कि उसके ही अधिकारी उसका यौन शोषण करने की कोशिश कर रहे हैं। साथ ही उसने यह भी आरोप लगाया है कि बात न मानने पर उसे परेशान किया जा रहा है और कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

मिली जानकारी के अनुसार पीड़िता राजधानी में ही रिजर्व पुलिस लाइन में तैनात थी। यहां आरआई उसके यौन शोषण के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रहे थे। विरोध करने पर उसके मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया गया। महिला कांस्टेबल का कहना है कि छुट्टी मांगने पर अवकाश भी नहीं दिया जा रहा था। परेशान होकर उसने अपना ट्रांसफर जानकीपुरम थाना चौकी में करवा लिया। लेकिन आरोपी आरआई अभी भी उसे सबक सिखाने की धमकी दे रहा है।आरोप है कि जब उसने घटना की शिकायत करने के लिए एसएसपी लखनऊ से मिलने की कोशिश की तो उनके पीआरओ ने कप्तान साहब से मिलने नहीं दिया। एसएसपी के पीआरओ आरोपी आरआई का ही पक्ष ले रहे हैं।

पीड़ित महिला कांस्टेबल ने कहा कि मुझे पुलिस में महिलाओं की सुरक्षा के लिए भर्ती किया गया है। लेकिन मैं खुद ही अपनी सुरक्षा नहीं कर पा रही हूं। जब मुझे ही न्याय नहीं मिल रहा है तो अन्य महिलाओं को क्या भरोसा दिला पाऊंगी कि उनके साथ न्याय होगा? कहा कि इस प्रदेश और पुलिस की न्याय व्यवस्था से मेरा विश्वास खत्म हो गया है।

आरोप है कि कोई भी अधिकारी पीड़िता की बात सुनने को तैयार नहीं है। मामले की जांच एसपी हाईकोर्ट लखनऊ अंकिता चौधरी को सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि महिला कांस्टेबल द्वारा यातायात निरीक्षक लखनऊ पर लगाए गए आरोपों की जांच की जा रही है। पीड़ित महिला कर्मचारी से संपर्क किया गया है। वह अभी अवकाश पर है और अन्य जनपद में है। जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here