11वीं गढ़वाल राइफल्स का जवान लापता, सीएम करेंगे केंद्र सरकार से बात, CDS बिपिन रावत से की बात

देहरादून : कश्मीर के गुलमर्ग में 11वीं गढ़वाल राइफल्स में तैनात देहरादून निवासी हवलदार राजेंद्र सिंह नेगी के बर्फ में फिसलकर पाकिस्तान सीमा में पहुंचने की खबर से पूरे उत्तराखंड में हलचल मच गई है। हर कोई जवान के सही सलामत घर वापस लौटने की दुआ कर रहा है। परिवार, गांव वाले और प्रदेश की जनता जवान की सलामती की दुआ कर रहे हैं. वहीं परिवार वालों ने केंद्र औऱ राज्य सरकार से मदद की गुहार लगाई है और विंग कमांडर अभिनंदन की तरह उनके बेटे को भी वापस लाने की मांग की है। वहीं इस पर सीएम ने जवान के परिवार को और प्रदेश की जनता को आश्वासन दिया है कि वो केंद्र सरकार से इस बारे में बात करेंगे औऱ जवान को वापस वतन लाने की पुरजोर कोशिश करेंगे।
सीएम ने दिया परिजनों को आश्वासन
रविवार को राजेंद्र के पिता रतन सिंह नेगी, भाई कुंदन सिंह, सुरेंद्र सिंह नेगी, विधायक सहदेव सिंह पुंडीर के साथ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मिले। इस दौरान राजेंद्र के पिता ने उनके बेटे को खोजने के लिए केंद्र सरकार से बात कर उचित कार्रवाई की मांग की। इस पर मुख्यमंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया कि वह इस संबंध में रक्षा मंत्री के साथ ही सेना के उच्चाधिकारियों से बातचीत करेंगे।
विधायक ने सीडीएस बिपिन रावत से की बात
वहीं उनकी मदद के लिए मसूरी विधायक गणेश जोशी ने सीडीएस जनरल विपिन रावत से फोन पर बात की। रविवार को मसूरी विधायक गणेश जोशी ने लापता सैनिक के परिजनों से मुलाकात की और जल्द ही शुभ समाचार आने की बात कही। विधायक ने फोन पर चीफ  ऑफ  डिफेंस स्टॉफ  जनरल विपिन रावत से बात कर मदद का अनुरोध किया। इस दौरान राजीव गुरुंग, सिकंदर सिंह, लापता जवान के भाई अवतार सिंह एवं रघुवीर सिंह नेगी मौजूद रहे।
विंग कमांडर अभिनंदन की तरह उनके बेटे को अपने वतन वापस लाने की अपील

बता दें कि इस खबर से जवान के परिवार में कोहराम मचा हुआ है। हर पल अनहोनी की आशंका से आंसू थम नहीं रहे हैं। जवान की पत्नी ने बताया कि सेना के यहां से आए फोन में बताया गया कि उनके पति की तलाश की जा रही है। वहीं जवान का परिवार चाहता है कि सरकार विंग कमांडर अभिनंदन की तरह उनके बेटे को अपने वतन वापस लाने के लिए पाकिस्तान पर दबाव बनाए।

केंद्र सरकार विंग कमांडर अभिनंदन की तरह उनके भाई को भी लाए-भाई

अब परिवार हर पल राजेंद्र के लौटने का इंतजार कर रहा है। फोन पर बजने वाली हर घंटी राजेंद्र की खुशखबरी का अहसास तो कराती है, लेकिन मन में किसी अनहोनी की आशंका भी बनी हुई है।
हवलदार राजेंद्र के भाई कुंदन का कहना है कि वह चाहते हैं कि केंद्र सरकार विंग कमांडर अभिनंदन की तरह उनके भाई को भी बचाने के लिए पाकिस्तान पर दबाव बनाए और जैसे भी हालत में उनका भाई है वापस लाएं।
पिता को कहा गया- बेटे को लगी है चोट, दून पहुंचकर पता लगी सच्चाई 
पिता ने बताया कि वो बाकी बेटों के साथ गांव रहते हैं उन्हें फोन कर सूचना दी गई कि उनके बेटे को चोट लगी है. जिसके बाद वो देर रात देहरादून पहुंचे और दून घर आकर मालूम चला कि असल में क्या हुआ है। पिता बेटे के लापता होने से आहत हैं. बूढ़ा पिता आस लगाए बैठा है कि जल्द उसका बेटा वापस लौट आएगा.
कश्मीर के गुलमर्ग में बर्फीले इलाके में तैनात थे राजेंद्र, तीन बच्चों के पिता हैं

मिली जानकारी के अनुसार देहरादून में अंबीवाला सैनिक कॉलोनी निवासी राजेंद्र सिंह नेगी ने वर्ष 2002 में 11 गढ़वाल राइफल्स ज्वाॅइन की थी। जो की अक्टूबर में एक महीने की छुट्टी लेकर देहरादून घर आए थे औऱ  नवंबर में वापस ड्यूटी में लौट गए थे। जवान के तीन बच्चे हैं।वह कश्मीर के गुलमर्ग में बर्फीले इलाके में तैनात थे। वहीं बच्चे बार-बार टीवी चैनल देख रहे हैं कि कब पिता के मिलने की खबर चलेगी। राजेंद्र के बचपन के दोस्त भी उसके परिवार को दिलासा देने के लिए उनके घर पहुंचे. बच्चों का रो रोकर बुरा हाल है.राजेंद्र के परिवार वाले, पड़ोसी और गांव के, क्षेत्र के लोग उसके वापस आने की दुआ कर रहे हैं।

8 जनवरी को किया था पत्नी को फोन, 1-2 दिन फोन नहीं कर पाया तो मेरी चिंता मत करना

वहीं जानकारी में हवलदार राजेंद्र सिंह नेगी की पत्नी राजेश्वरी देवी ने बताया कि राजेंद्र ने आखिरी बार 8 जनवरी को फोन किया था। थोड़ी सी बातचीत में राजेंद्र सिंह ने कहा कि यहां गुलमर्ग में भारी बर्फबारी हो रही है और यहां जनरेटर भी खराब है अगर 2-3 दिन फोन नहीं कर पाया तो मेरी चिंता मत करना। वहीं इसी के साथ राजेंद्र सिंह ने अपने पैतृक गांव पजियाणा मल्ला में अपनी मां को भी फोन किया था और कहा था कहा कि वह बहन के साथ देहरादून घूमकर आ जाए। इसके बाद राजेंद्र सिंह का फोन नहीं आया।

जवान को आधुनिक हथियारों का काफी ज्ञान

मिली जानकारी के अनुसार 40 साल के राजेंद्र सिंह 2001 में लैंसडौन में सेना में भर्ती हुए जो कि अलग-अलग पोस्टों पर तैनात रहे। अप्रैल 2019 तक वह देहरादून के गढ़ीकैंट में तैनात रहे, जिसके बाद उन्हें गुलमर्ग भेजा गया। राजेंद्र सिंह ने आर्मी से जुड़े काफी कोर्स किए हैं, जिस कारण उन्हें आधुनिक हथियारों का भी ज्ञान है। इसलिए उन्हें वर्तमान में पोस्ट इंचार्ज की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

पिता के वापस लौटने की दुआ कर रही बेटी

जानकारी मिली है कि हवलदार राजेंद्र चार भाई है जिसमे से तीन भाई मजदूरी करते हैं। वो अकेले ही सरकारी नौकरी कर रहे हैं और घर के इकलौते कमाने वाले हैं। जवान के पिता रतन सिंह नेगी भी घर में खेतीबाड़ी का काम करते हैं। उन्होंने 2015 में अंबीवाला स्थित सैनिक कॉलोनी प्रेमनगर में अपना घर बनाया था और परिवार वहीं रह रहा था. बेटी आईएमए केवी स्कूल मे पढ़ाई कर रही है और बस पिता के सही सलामत होने और वापस आने की दुआ कर रही है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here