पटाखे के ऊपर स्टील का गिलास रखकर फोड़ा, 9 साल के मासूम की मौत

दिल्ली समेत कई जगहों पर बड़े पटाखों की ब्रिकी और खरीद पर रोक लगाई है जोकी प्रदूषण तो फैलाता ही है लेकिन साथ में मनुष्य को भी नुकसान पहुंचाते हैं या पहुंचा सकते हैं। दिवाली से पहले से ही बच्चे पटाखे फोड़ना शुरु कर देेते हैं। कई बार बच्चे नई ट्रिक के साथ पटाखे फोड़ते हैं और खुद को नुकसान पहुंचाते हैं। कई बार तो पटाखों ने जान तक ले ली है। जी हां ऐसा ही ताजा मामला दिल्ली के अलीपुर से सामने आया है जहां पटाखे ने एक मासूम की जान ले ली।

आपको बता दें कि पटाखे ने 9 साल के मासूम बच्चे की जान ले ली। घर सहित मौहल्ले में इससे कोहराम मच गय़ा। जानकारी मिली है कि बच्चेे ने पटाखे के ऊपर स्टील का गिलास रख दिया। जब पटाखा फूटा तो स्टील का गिलास भी फटा औऱ तेज धमाका हुआ। गिलास के टूकड़े बच्चे के शरीर में घुस गए। उसे पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। शव को परिवार वालों के हवाले कर पुलिस ऐसे पटाखा बेचने वालों की तलाश कर रही है।

मृतक बच्चे की पहचान प्रिंस दास (9) के रूप में हुई है जिसका परिवार ओउम कॉलोनी बख्तावरपुर में रहता है। प्रिंस शांति निकेतन पब्लिक स्कूली में चौथी कक्षा में पढता था। उसके पिता राम रखबाल दास निजी कंपनी में नौकरी करते हैं जबकि मां बबीता देवी खेतों में काम करती है।

मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को उसके माता-पिता काम पर गये थे। अन्य बच्चों की तरह प्रिंस इलाके की किसी दुकान से पटाखे खीदकर लाया था। उसके बाद वह पड़ोस के बच्चों के साथ खाली प्लॉट में पटाखे चलाने के लिए चला गया। बम को फोड़ने के दौरान उसने स्टील का गिलास उस पर रख दिया। पटाखा नहीं फूटने पर वह उसे पास से देखने गया। इसी दौरान बम में धमाका हो गया और गिलास के परखच्चे उड़ गये। गिलास के कई टूकड़े उसके शरीर में घुस गये। वह घायल होकर वहीं गिर गया। घटना की जानकारी मिलते ही प्रिंस के माता पिता वहां पहुंचे और उसे पास के अस्पताल में भर्ती कराया। डॉक्टरों ने प्रिंस को मृत घोषित कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here