फ्रांस और जर्मनी में भीषण बाढ़, कई मरे।

एजेंसियां। फ्रांस में एक सप्ताह के तूफान के बाद आज मूसलाधार बारिश हुई। तूफान और बारिश के कारण पूरे उत्तरी यूरोप में अभी तक नौ लोग मारे गए हैं हैं। सड़कें पानी में डूब गई हैं, स्कूल बंद हैं और लोग मकानों की छतों पर फंसे हुए हैं।

जर्मनी में आठ लोग मारे गए हैं और फ्रांस में पिछले छह दिनों से हो रही भारी बारिश के कारण सेइन और अन्य नदियों के बांध टूट गए हैं। इसके कारण पेरिस के दक्षिणी भाग में नदी तट पर स्थित कस्बों और लोरे घाटी से सैकड़ों लोगों को सुरक्षित निकाला गया है।

100 साल से ज्यादा लंबे समय बाद आई इस भीषण बाढ़ के दौरान मध्य फ्रांस के सुपेस-सुर-लोइन में बाढ़ के पानी से भरे मकान से 86 वर्षीय महिला का शव मिला है। छोटे से कस्बे मोंताग्रिस की हालत ऐसी है कि वहां पानी भरने के कारण सिर्फ ऊंची सड़कों पर खड़ी कारों की छत दिख पा रही है।

बचावकर्मियों ने करीब 10,000 फोन कॉल पर त्वरित कार्रवाई करते हुए अभी तक 5,000 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला है।

बाढ़ से जूझ रहे नेमोर्स शहर के आपदा नियंत्रण केन्द्र पहुंचे प्रधानमंत्री मैन्यूअल वाल्स ने कहा, ‘विभिन्न क्षेत्रों में स्थिति तनावपूर्ण और मुश्किल बनी हुई है। हमें अभी भी बहुत चिंताएं हैं।’ दक्षिणी जर्मनी में नदियों में जलस्तर खरतनाक तरीके से बढ़ जाने के कारण कई जानें गई हैं और बावरिया शहर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है। बचावकर्मियों ने कल एक मकान से तीन शव बरामद किए। पुलिस ने चेतावनी दी है कि अभी और लोग लापता हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here