उत्तराखंड में तबाही : चमोली में बादल फटने से अब तक 5 की मौत, रेस्क्यू जारी

चमोली- चमोली जिले से लगे चीन सीमा क्षेत्र नीती घाटी में गुरुवार रात को जेलम और तमक गांव में बादल फटने से भारी तबाही मच गई। जिसमें दो लोगों की मरने की खबर थी. लेकिन इसकी संख्या बढ़कर 5 हो गई. जोशीमठ मलारी रोड के करीब बादल फटने के बाद जिला प्रशासन, पुलिस व एसडीआरएफ की टीम लगातार बचाव व राहत कार्यों में जुटी है.

जोशीमठ एसडीएम योगेंद्र सिंह ने बताया की सुबह 7 बजे ग्रामीणों ने उन्हें सूचना दी कि दोनों गांवों में बादल फटा है। जानकारी के अनुसार जोशीमठ मलारी रोड पर जोशीमठ से लगभग 42 किमी दूरी पर भापकुंड के पास बादल फटने से एक झोपड़ी बह गई है। जिसमें 5 लोगों के मरने की सूचना है। घटना में मृतक बीआरओ के मजदूर बताए जा रहे हैं। मृतको में एक बच्चा तथा एक अज्ञात भी व्यक्ति शामिल है।

दो के शव निकाले जा चुके हैं। 3 आवासीय भवन ध्वस्त हो गए हैं। इन सुदूरवर्ती गांवों में पहुंचकर जोशीमठ पुलिस, एसडीआरएफ, बीआरओ और आपदा प्रबंधन जदूकी टीम लापता लोगाें की तलाश में जुटी हुई है। जोशीमठ से करीब 50 किलोमीटर दूर नीति घाटी में मलारी रोड पर बीआरओ के मजदूरों के कैंप हैं। ये मजदूर इस सीमांत क्षेत्र में सड़कों के रखरखाव के लिए तैनात रखे जाते हैं।

गौर हो कि इससे पहले सोमवार को चमोली के थराली और घाट ब्लॉक में बादल फटा था। घाट ब्लॉक के कुंडी गांव के शीर्ष भाग में बादल फटने से बरसाती नाले ने क्षेत्र में तबाही मचा दी थी। ग्रामीणों ने भारी बारिश में ही सुरक्षित स्थान की ओर भागकर अपनी जान बचाई थी। इस दौरान दो लोग घायल हुए थे. कई मावेशियों की जान चली गई थी औऱ कई मकान धवस्त हो गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here