उत्तराखंड के इस युवा ने अब गूगल में ढूंढी खामी, फिर से जीते इतने डॉलर

हल्द्वानी: सोशल नेटवर्किंग साइट्स की खामियां ढूंढकर उन्हें दूर करने की सलाह देकर जाड़ापानी, गंगोलीहाट (पिथौरागढ़) निवासी युवा साइबर एक्सपर्ट कमल कोठारी ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। पिछले साल फेसबुक की कमियां ढूंढकर 2000 यूएस डॉलर का अवॉर्ड हासिल करने वाले कमल ने अब सर्च इंजन गूगल में बिना अधिकार डाटा एक्सेस करने की कमी खोजी है। इसके लिए गूगल ने 100 टॉप रिसर्चर की हॉल ऑफ फेम सूची में कमल को स्थान देते हुए 1337 यूएस डॉलर का पुरस्कार भी दिया है।

मल्टीनेशनल कंपनी में बतौर साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट कार्यरत

पुणे की मल्टीनेशनल कंपनी में बतौर साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट कार्यरत कमल ने हाल ही में सबसे ज्यादा प्रचलित गूगल की सिक्योरिटी संबंधी खामी को ढूंढा। कमल के मुताबिक बिना प्रॉपर राइट के किसी के अकाउंट से डाटा एक्सेस नहीं किया जा सकता, लेकिन गूगल में यह हो रहा था।

गूगल को मेल के जरिये बताया

इस कमी को कमल ने गूगल को मेल के जरिये बताया। मामला सही था तो गूगल की ओर से भी कमल की प्रतिभा को सम्मान देते हुए 1337 यूएस डॉलर की राशि भेजी गई। 2017 में गूगल के टॉप 100 इथिकल हैकर्स की सूची में शामिल कमल ने फेसबुक में भी डाटा एक्सेस संबंधी खामी पकड़ी थी। कमल कहते हैं कि उन्हें साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र में काम करने का जुनून है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here