इस गांव की महिलाओं ने संभाली कमान और रुक गया पलायन…जानिए कैसे

पिथौरागढ़ :उत्तराखंड में तेजी से पलायन हुआ. उत्तराखंड में कई गांव भूतिया हो गए. पलायन आयोग की रिपोर्ट से चौकाने वाला खुलासा हुआ. लेकिन राज्य के जिले पिथौरागढ़ में एक ऐसा गांव है जहां महिलाओं ने ऐसी कमान संभाली की पलायन रुक गया. जिस गांव तक जाने में अधिकारी और कर्मचारी कतराते हैं। साल के तीन माह वहां बर्फबारी होती है और मानसून के चार माह में गांव अलग-थलग पड़ा रहता है। सड़क अभी 27 किमी दूर है। उस गांव के जैविक आलू पूरे कुमाऊं के बाजार में उपलब्ध है। जैविक आलू और राजमा ने गांव से होने वाले पलायन पर रोक लगा दी है।

आलू, राजमा, साग-सब्जी और जड़ी-बूटी का उत्पादन होता है

130 परिवारों वाले 7095 फीट की ऊंचाई पर स्थित गांव पर प्रकृति ने सौंदर्य से भरपूर है लेकिन यहां का जीवन बेहद कठिन भी है। इस ऊंचाई पर फसलों के उत्पादन के नाम पर आलू, राजमा, साग-सब्जी और जड़ी-बूटी का उत्पादन होता है।

आलू उत्पादन को आजीविका का आधार बनाया

ग्रामीणों ने जैविक कठिन हालातों से बाहर आने के लिए आलू की खेती को ढाल बनाया. 7000 फीट की ऊंचाई पर जैविक आलू उत्पादन कर उसे 27 किमी पैदल मार्ग से ढोकर सड़क तक पहुंचाया तो आलू ने अपना स्थान बना लिया। नामिक के आलू का स्वाद लोगों को ऐसा भाया कि पूरे कुमाऊं में इसकी पहाड़ी आलू के नाम पर सबसे अधिक मांग है। अब यहां ग्रामीण आलू की खेती बढ़ रही हैं। गांव के सभी घर आबाद भी हैं और बाहर नौकरी व पेशा करने वाले लोग देखभाल के लिए आते-जाते भी रहते हैं।

महिलाएं के हाथ में है कमान

नामिक गांव के कुछ युवा फौज में हैं कुछ बाहर प्राइवेट कंपनियों में काम करते हैं। कुछ शिक्षक भी है। अधिकांश ग्रामीण गांव में ही रहकर आलू, राजमा और जड़ी बूटी की खेती करते हैं। भेड़ व बकरियां पाल कर ऊनी हस्तशिल्प से जुड़े हैं। गांव की महिलाओं ने अपना समूह बनाया है।

समूह के माध्यम से प्रति सदस्य पचास रु पए का शुल्क लेकर कोष बनाया है। महिलाएं 27 किमी पैदल चल कर क्वीटी बैंक के खाते में रकम जमा करती हैं। गांव में प्रकाश के लिए उरेडा ने स्मॉल पावर हाउस प्रोजेक्ट बनाया है। इसके लिए बनी नहर जब क्षतिग्रस्त होती है तो गांव की महिलाएं खुद इसकी मरम्मत करती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here