आम, बेल, आंवला और जामुन बनाएंगे रिस्पना को ऋषिपर्णा नदी, पौधे रोपने का बनेगा रिकॉर्ड

देहरादून- मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल रिस्पना नदी को ऋषिपर्णा बनाने की कवायद शुरू हो गई है। नदी को पुनर्जीवित करने के लिए राज्य के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने आज सचिवालय में तैयारियों की समीक्षा की।
इस मौके पर उन्होने कहा जुलाई में एक ही दिन में डेढ़ लाख पौधे लगाए जाएंगे। दुर्गम पर्वतीय क्षेत्र में एक ही दिन में एक साथ पौधे लगाने का रिकॉर्ड बनेगा। पौधे लगाने के लिए गड्ढे खोदने का कार्य 5 मई से शुरू हो जाएगा। रिस्पना नदी के स्रोत से शिखर फाॅल और राजपुर हेड से यह कार्य शुरू किया जाएगा।
मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि इस मिशन में वन विभाग, इको टास्कफोर्स, सिंचाई विभाग के अलावा जन सहभागिता भी सुनिश्चित की जाय। विभिन्न संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं, विद्यार्थियों का भी सहयोग लिया जाय।
  बैठक में बताया गया कि रिस्पना नदी के क्षेत्र को हेड से टेल तक ब्लॉकों में बांटा गया है। कार्य की सुविधा के लिए सब-ब्लॉक भी बनाये गए हैं। नदी की सफाई का कार्य शुरू कर दिया गया है। पौध रोपण के गड्ढे खोदने के लिए झाड़ियों की सफाई का कार्य शुरू हो गया है। 75 हजार एकड़ क्षेत्रफल में 25 एकड़ भाग पहुंच में है। शेष 50 एकड़ दुर्गम पर्वतीय क्षेत्र है। सभी स्थानों पर पौध रोपण के लिए कार्य योजना बना ली गई है। वन विभाग और इको टास्कफोर्स को डेढ़ लाख पौधों की व्यवस्था करने के लिए कहा गया है।
निर्देश दिए गए कि कम से कम 50 हजार फलों के पौधे लगाए जाए। जिससे कि जंगली जानवरों को खाने के लिए जंगल में ही फल मिल सके। मानव वन्यजीव संघर्ष को रोका जा सके। आम, बेल, आंवला, जामुन आदि के पौधे लगाए जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here