5 घंटे से कराहती प्रसव पीड़िता को अस्पताल ने नहीं किया भर्ती, रास्ते में हुई डिलीवरी

चंपावत। पांच घंटे कराहती प्रसव पीड़िता को जिला अस्पताल ने भर्ती नहीं किया जिसेक बाद महिला ने रास्ते में बच्चे को जन्म दिया. चिकित्सक उसे भर्ती की करने की बजाए दूसरे अस्पताल जाने की सलाह देते रहे। पांच घंटे तक गुहार लगाने के बाद परिजन महिला को लेकर पिथौरागढ़ रवाना हुए, लेकिन आधे रास्ते में ही डिलीवरी हो गई।

डॉक्टर और नर्स ने दी महिला को दूसरे चिकिल्सालय ले जाने की सलाह 

ग्राम मोहनपोखरी, फुंगर निवासी रेखा देवी पत्नी कैलाश राम को परिजन तड़के साढ़े चार बजे जिला चिकित्सालय लेकर आए। ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर और नर्स ने महिला को दूसरे चिकिल्सालय ले जाने की सलाह दे डाली।

बिना चेकअप के कहा ऑपरेशन से होगी डिलीवरी

परिजनों का आरोप है कि महिला का चेकअप किया बिना चिकित्सक ने कहा दिया कि डिलीवरी ऑपरेशन से होगी और यहां आपरेशन थियेटर नहीं है। परिजन अस्पताल के स्टाफ की मिन्नतें करते रहे।

आरोप है कि सीएमएस डॉ. आरके खंडड़ी ने परिजनों को बताया कि महिला की स्थिति गंभीर है और उसमें खून की कमी है, महिला की उम्र ज्यादा है। निराश परिजन महिला को निजी वाहन से पिथौरागढ़ ले जाने लगे। रास्ते में महिला का दर्द तेज हो गया। साथ आई गांव की महिलाओं ने  वाहन में प्रसव कराया।

पिथौरागढ़ पहुंचने पर महिला को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टर ने बताया जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ्य हैं। दूसरी ओर ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक आरके जोशी का कहना है कि महिला की हालत ज्यादा खराब थी। उसकी पांचवी डिलीवरी थी। अस्पताल में एनेस्थेटिक नहीं हैं और स्त्री रोग विशेषज्ञ भी छुट्टी पर हैं। एंबुलेंस दूसरी जगह गई हुई है। इसी कारण महिला को रेफर करना पड़ा। चम्पावत के एसडीएम सीमा विश्वकर्मा ने मामले को गंभीर बताते हुए कहा कि परिजनों ने उनसे इस बारे में शिकायत की है। जांच की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here