यहां आज भी मरीजों को डोली में ले जाते हैं ग्रामीण, आजादी के बाद से आज तक नहीं बनी सड़क

यहां आज भी ग्रामीण मरीजों को डोली में बैठाकर अस्पताल ले जाते हैं। ये बिडंबना है स्वतंत्रता सेनानियों के गावों की। दरअसल बागेश्वर के इस गांव में आजादी के बाद से आज तक एकाद सड़क नहीं बन पाई। यहां आज भी लोग आदिम युग में जी रहे हैं।

तहसील के कई गांव ऐसे हैं जिन्होंने स्वतन्त्रता संग्राम में प्रमुख भूमिका निभाई और इसके लिए कई बहादुरों ने अपनी जान भी गवाईं। देश आजाद हुआ तो चुने गए जन प्रतिनिधियों ने इन गांवों को ओर अपना मुंह मोढ़ लिया। फलस्वरूप ये गांव आज तक यातायात की सुविधा से ही नहीं जुड़ पाए हैं।

सात दशक बाद भी नहीं मिली इन गांवों को यातायात सुविधा 

गरुड़ के सिल्ली, मटेना, जिनखोला और बंड के कई सपूतों ने स्वतन्त्रता संग्राम आंदोलन में अपनी जान देश पर न्यौछावर कर दी। सात दशक बाद भी इन गांवों को यातायात की सुविधा नहीं मिल सकी है। ग्रामीण इसके लिए लंबे समय से मांग उठा रहे हैं। लोकसभा के चुनाव हों या फिर विधानसभा के चुनाव प्रत्येक प्रत्याशी इन गांवों की दुर्दशा पर आंसू बहाना नहीं भूलता है।

108 की नहीं सुविधा

वायदा करता है कि अगर वह जीत गया तो इन गांवों को यातायात की सुविधा देगा, परंतु कुर्सी मिली तो वह सब कुछ भूल जाता है। यातायात सुविधा न होने के कारण इन गांवों के लोग 108 आपातकालीन सेवा का लाभ भी नहीं ले पाते हैं। कई किलोमीटर पैदल चलकर इन गांवों के लोग आज भी मरीज को डोली में लिटाकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बैजनाथ ले जाते हैं।

मटेना की प्रधान शकुंतला कांडपाल, जिनखोला की प्रधान नरुली देवी, बंड के प्रधान नंदन सिंह, कोटुली के प्रधान कैलाश चंद्र, क्षेत्र पंचायत सदस्य प्रेमा नेगी, हेम चंद्र पांडे, कैलाश पांडे आदि ने ब्‍लॉक मुख्यालय से शीघ्र इन गांवों को सड़क बनाने की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here