khabaruttarakhand.com की ओर से सीएम त्रिवेंद्र रावत को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं

देहरादून- 57 साल पूरे कर चुके सूबे के त्रिवेंद्र रावत का आज जन्मदिन है। पौड़ी जिले के खैरासैंण गांव में 20 दिसंबर 1960 को जन्म लेने वाले त्रिवेंद्र रावत उत्तराखंड के आठवें मुख्यमंत्री हैं। सैनिक परिवार से ताल्लुक रखने वाले त्रिवेंद्र रावत के पिता स्व. प्रताप सिंह गढ़वाल राइफल से रिटायर्ड थे। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत की माता का नाम बोद्धा देवी था।

अपने परिवार में सबसे छोटे होने के चलते त्रिवेंद्र रावत सबके लाड़ले रहे। महज 19 साल की उम्र में ही त्रिवेंद्र रावत का रुझान भारतीय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखाओं  में होने लगा। संघ की विचार धारा से त्रिवेंद्र रावत इतने प्रभावित हुए कि फिर न इधर देखा न उधर हमेशा हमेशा के लिए संघ के हो गए।

हालांकि सन 1979 में त्रिवेंद्र रावत ने आरएसएस की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण की। संघ में बढ़ती सक्रियता और तल्लीनता के कारण संघ ने साल 1985 में त्रिवेंद्र रावत को प्रचारक नियुक्त कर दिया। इस बीच त्रिवेंद्र रावत ने गढ़वाल विश्वविद्यालय के बिडला परिसर से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर उपाधि धारण की। कुछ समय तक मेरठ से प्रकाशित होने वाले संघ के विचारधार से जुड़े अखबार राष्ट्रदेव का संपादन भी किया। वहीं इस बीच चल रहे अलग राज्य आंदोलन में अपनी सक्रिय भूमिका निर्वाह की और कई बार राज्य आंदोलनकारी के तौर पर गिरफ्तार भी हुए।

राज्य बनने के बाद पहले आम चुनाव में भाजपा ने त्रिवेंद्र रावत को डोईवाला विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया और रावत ने डोइवाला फतह किया। उसके बाद साल 2007 में भी त्रिवेंद्र रावत डोईवाला से निर्वाचित हुए और जनरल साहब की कैबिनेट में कृषि मंत्री बनाए गए। साल 2012 के परिसीमन के बाद त्रिवेंद्र रावत को भाजपा ने रायपुर विधानसभा सीट पर टिकट थमाया लेकिन इस बार रायपुर का रण त्रिवेंद्र रावत हार गए।

बहरहाल भाजपा ने त्रिवेंद्र रावत की काबिलियत पर एतबार बनाए रखा और साल 2013 में उन्हें राष्ट्रीय सचिव नियुक्त किया। इस दौरान पार्टी ने उन्हें मौजूदा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के साथ लोकसभा चुनाव के लिए उत्तरप्रदेश का सहप्रभारी बनाया। अमित शाह ने त्रिवेंद्र रावत की काबिलियत पर हर बार भंरोसा किया। नतीजा ये हुआ कि उत्तरप्रदेश में लोकसभा चुनाव में भाजपा को प्रचंड बहुमत मिला। इसके बाद त्रिवेंद्र रावत को साल 2014 में उन्हें झारखंड का प्रभारी बनाया गया।

झारखंड में भी भाजपा की सरकार बनी और संगठन त्रिवेंद्र रावत की काबिलियत का मुरीद हो गया। उसके बाद पार्टी ने उत्तराखंड चुनाव मे रावत को डोईवाला सीट से उम्मीदवार बनाया और त्रिवेंद्र रावत ने जीत हासिल की और पार्टी ने त्रिवेंद्र रावत को उत्तराखंड का मुख्यमंत्री बनाया। आज त्रिवेंद्र रावत का जन्मदिन पार्टी कार्यकर्ता धूमधाम से मना रहे हैं।

khabaruttarakhand.com की ओर से भी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here