किसानों के लिए सरकार ने खोला खज़ाना, धान खरीद का भुगतान होगा तुरंत

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेश में धान की खरीद पहली अक्टूबर से प्रारम्भ किये जाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने इसके लिये 25 सितम्बर तक सभी क्रय केन्द्रों पर कांटों के साथ ही कम्प्यूटर आदि की व्यवस्था सुनिश्चित करने एवं धान का क्रय ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत किये जाने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने किसानों को धान का मूल्य समय पर हो इसके लिये सहकारिता विभाग को 50 करोड़ धनराशि उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिये हैं।

शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में खरीफ खरीद सत्र 2018-19 की सभी सम्बंधित विभागों के उच्चाधिकारियों के साथ समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि धान क्रय केन्द्रों पर किसानों को कोई कठिनाई न हो यह भी सुनिश्चित किया जाय, किसानों का धान का मूल्य तत्काल किये जाने के भी निर्देश मुख्यमंत्री ने दिये हैं।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि इस वर्ष 10 लाख टन धान के क्रय का लक्ष्य निर्धारित किया जाय, पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष उधम सिंह नगर एवं हरिद्वार में क्रय केन्द्रों की संख्या भी बढ़ाये जाने के निर्देश उन्होंने दिये। उन्होंने कहा कि धान क्रय की ऑनलाइन व्यवस्था होने से किसानों को भुगतान में भी सुविधा रहेगी। उन्होंने यह सुनिश्चित करने को कहा कि किसानों को तीन दिन के अन्दर धान खरीद का भुगतान किया जा सके। उन्होंने किसानों की सूची अविलम्ब तैयार करने एवं पहली अगस्त से किसानों का रजिस्ट्रेशन भी प्रारम्भ करने के निर्देश दिये।

बैठक में प्रमुख सचिव खाद्य श्री आनन्द बर्धन ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि प्रदेश में खरीफ खरीद सत्र 2018-19 हेतु 05 क्रय एजेन्सियां नामित की गई है, जिसमें खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग(विपणन शाखा), उत्तराखण्ड राज्य सहकारी विपणन संघ लिमिटेड, भारतीय राष्ट्रीय कृषक उपज उपार्जन, प्रसंस्करण एवं रिटेलिंग सहकारी संघ मर्यादित(एन.ए.सी.ओ.एफ.), भारतीय राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी संघ मर्यादित(एन.सी.सी.एफ.), उत्तर प्रदेश उपभोक्ता सहकारी संघ लिमिटेड शामिल है। साथ ही प्रदेश में गढ़वाल व कुमाऊं मण्डलों में कुल 158 क्रय केन्द्र स्थापित किये गये है, इसमें मा0 मुख्यमंत्री के निर्देश पर उधम सिंह नगर के क्रय केन्द्रों की संख्या 127 से बढ़ाकर 140 तथा हरिद्वार में 13 से बढ़ाकर 20 कर दी जायेगी। उन्होंने बताया कि कृषकों को किये जाने वाले धान के मूल्य का भुगतान व क्रय हेतु सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है, तथा इस वर्ष के लिए धान का मूल्य 1770 रू0 प्रति कुन्तल निर्धारित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here