भाई को इंसाफ दिलाने के लिए सड़क पर उतरी चारों बहनें, रेलवे ट्रैक पर मिला था शव

टिहरी गढ़वाल- देहरादून जिले की डोईवाला पुलिस थाने में बैठै पुलिस अधिकारियों की लापरवाही के कारण आशीष भट्ट मर्डर केस की जांच में कोई कार्यावाही ना होने पर नई टिहरीवासियों ने डोईवाला पुलिस के खिलाफ नई टिहरी के बौराड़ी चौक नारेबाजी करते हुये इस केस की जांच सीबीआई से करवाने की मांग उठाई. साथ ही मृतक आशीष के याद में पूरे शहर में केन्डिल जलाकर रैली निकाली।

मामला 5 फरवरी 2018 का है. जब डोईवाला के मियांवाला रेलवे ट्रेक के बीचों-बीच नई टिहरी का रहने वाला चार बहनों का इकलोता भाई आषीश भटट जिसकी उम्र 27 का थी का शव मिला था. मृतक आशीष 4 फरवरी की रात को देहरादून में अपने घरवालों के साथ था. 5 फरवरी की सुबह 5 बजे उसकी लाश मियांवाला रेलवे ट्रेक के बीचों-बीच मिली। जिसे डोईवाला थाने की पुलिस ने इस मामले को आत्महत्या मानकर इस मामले को बन्द कर दिया.

मृतक आशीष की बहन अर्चना ने इसको हत्या की अशंका जताई

इसके बाद मृतक आशीष की बहन अर्चना ने इसको हत्या की अशंका को देखते हुए अपने स्तर से जांच करनी शुरू की और फैसबुक मोबाइल कॉल डिटेल और अन्य सबूत हाथ लगने के बाद अर्चना ने डोईवाला पुलिस थाने में सबूत के आधर पर नामजद दो लोगों को खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने गई. लेकिन पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने से मना कर दिया.

मृतक की बहिन ने सबूत के साथ उत्तराखण्ड सरकार के डीजीपी से मिली

जिसके बाद मृतक की बहिन ने सबूत के साथ उत्तराखण्ड सरकार के डीजीपी से मिली. जिसके बाद डीजीपी पर 70 दिन बाद एफआईआर दर्ज हुई लेकिन डोईवाला पुलिस के द्धारा एफआईआर दर्ज होने के बाद भी नामजद  आरोपियों के खिलाफ कोई कार्यावाही नहीं की गई. जिसको लेकर मृतक की चार बहने हत्यारों को पकड़वाने के लिये उत्तराखण्ड सरकार के मुख्यमंत्री से लेकर कई मत्रियों के चक्कर काट रही हैं लेकिन आज तक न्याय नहीं मिला औऱ ना ही इन लापरवाह पुलिस के खिलाफ कोई कड़ी कार्यावाही की गई.

जबकि हत्यारों ने मृतक आशीष को रेलवे ट्रेक के बीचों-बीच रखकर इसे आत्महत्या का रूप देने की कोशिश की थी, लेकिन फेसबुक और भाई के मोबाइल नम्बर पर लगातार एक नम्बर से हुई बात र मैसेज ने इस मामले की पोल खोल कर रख दी लेकिन पुलिस की सुस्ती के कारण आज हत्यारों को गिरप्तार नहीं किया गया।

नई टिहरी निवासियों ने शासन प्रशासन को चेतावनी दी है कि अगर जल्द इस मामले को सीबीआई को नहीं सौंपा जाता औऱ हत्यारे नहीं पकडे तब तक नई टिहरी के सारे लोग देरहादून की सडकों पर उतरेगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here