पांच जूते मार निपटाया युवती से दुष्कर्म का मामला, पुलिस के सुस्त रवैये पर उठे सवाल

हरिद्वार – क्षेत्र के एक गांव में पंचायत ने दुष्कर्म के आरोपी को पांच जूते मारने की सजा देकर मामला रफा दफा कर दिया। पुलिस को पांच दिन पहले कार्रवाई के लिए तहरीर दी गई थी, लेकिन पुलिस न जाने किस बात का इंतजार करती रही। इस बीच परिवार बिरादरी के दबाव में आ गया और शुक्रवार को पंचायत ने दुष्कर्म जैसे संगीन जुर्म के आरोपी को पांच जूते मार कर मामला निपटा दिया।

गांव के दो युवकों ने अपहरण कर किया था दुष्कर्म

क्षेत्र के गांव में बीते 17 दिसंबर को युवती से दुष्कर्म का मामला सामने आया था। परिजनों ने पांच दिन पहले पुलिस चौकी में तहरीर दी थी। जिसमें आरोप लगाया गया था कि गांव के दो युवकों ने उनकी बेटी का रात के समय अपहरण किया और घर के पीछे श्मशान घाट में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया।

एक बार फिर करना चाहा था पीड़िता से दुष्कर्म

किसी को इस बार में बताने पर पीड़िता को जान से मारने की धमकी भी दी गई। डर के कारण कई दिन तक पीड़िता ने अपना मुंह नहीं खोला। जिसके बाद आरोपियों ने एक बार फिर पीड़िता के साथ दुष्कर्म करना चाहा। तब उसके चचेरे भाई ने आरोपियों को देख लिया और उनके बीच हाथापाई भी हुई थी।

बहरहाल पीड़ित परिवार ने पुलिस से कार्रवाई की मांग की थी, लेकिन पुलिस कार्रवाई के लिए इंतजार करती रही। इस बीच गांव के कुछ लोग पीड़ित परिवार पर समझौते का दबाव बनाते रहे। आखिरकार शुक्रवार को पंचायत बैठी और पंचायत में आरोपियों को भी बुलाया गया। दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद पंचायत ने आरोपी को पांच जूते मारने के सजा सुनाई।

इसके बाद मामला रखा दफा करते हुए कानून कार्रवाई ना करने के लिए परिवार को राजी कर लिया गया। इस पूरे मामले से पुलिस की सुस्ती पर भी सवाल उठ रहे हैं। हालांकि परिवार भी समाज में बदनामी का हवाला देते हुए अब पुलिस कार्रवाई से इंकार कर रहा है। वहीं, एसएसपी कृष्ण कुमार वीके का कहना है कि यह मामला संज्ञान में नहीं आया है। इस बारे में पथरी पुलिस से जानकारी लेकर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here