108 की लापरवाही से गई डेढ़ साल के मासूम की जान, परिजनों को है पछतावा

108चमोली- राज्य में लगातार 108 की लापरवाही सामने आ रही है लेकिन सरकार ने अभी तक इसके लिए कोई ठोस कदम उठाया औऱ न सोची. अव्यवस्था का पर्याय बन चुकी 108 सेवा की लेटलतीफी से गैरसैंण में एक और मासूम की जान चली गई। पांच घंटे विलंब से पहुंची एंबुलेंस के हायर सेंटर पहुंचने से पहले ही बच्चे ने दम तोड़ दिया। इससे पांच दिन पहले भी एंबुलेंस की देरी के चलते आठ माह की गर्भवती महिला ने दम तोड़ दिया था।

डेढ़ वर्षीय बालक अमन की बिगड़ी तबीयत 

गैरसैंण विकासखंड के मठकोठ निवासी प्रकाश लाल के डेढ़ वर्षीय बालक अमन की रविवार शाम तबीयत बिगड़ गई। इस पर परिजन बच्चे को रात्रि नौ बजे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गैरसैंण ले गए। बच्चे के पिता प्रकाश लाल ने बताया कि स्वास्थ्य केंद्र गैरसैंण के चिकित्सकों ने हर संभव प्रयास किया, लेकिन बच्चे की हालत में सुधार नहीं हुआ।

एंबुलेंस खराब होने की बात कहकर अल्मोड़ा के चौखुटिया से 108 भेजनो को कहा

इसके बाद रात्रि 10 बजे रात एंबुलेंस के लिए फोन किया गया, लेकिन 108 संचालकों ने गैरसैंण की एंबुलेंस खराब होने की बात कहकर अल्मोड़ा के चौखुटिया से 108 भेजे जाने की बात कही। इस बीच गैरसैंण स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक लगातार बच्चे को बचाने की कोशिश में जुटे रहे।

परिजनों को है पछतावा

रात करीब ढाई बजे एंबुलेंस गैरसैंण पहुंची और गंभीर स्थिति में बच्चे को लेकर हायर सेंटर श्रीनगर के लिए रवाना हुई। रास्ते में 108 की पैरामेडिकल टीम बच्चे की हालत पर नजर रख रही थी, किन्तु बेस अस्पताल श्रीनगर पहुंचने से पहले प्रात: चार बजे के करीब रुद्रप्रयाग के समीप बच्चे ने दम तोड़ दिया। मृत बच्चे के परिजनों को मलाल है कि 10 बजे एंबुलेंस उपलब्ध होने की दशा में दो बजे श्रीनगर अस्पताल पहुंचना तय था। इससे बच्चे की जान बच सकती थी।

बीते दिन गई थी एक गर्भवती महिला की जान

गौर हो कि बीते दिन गैरसैंण तहसील के मठकोठ निवासी 28 वर्षीय भागा देवी पत्नी हरीश चंद्र को आठ माह की गर्भवती थी। पिछले बुधवार की सुबह एकाएक तबीयत खराब हो गई। परिजनों ने 108 सेवा को फोन किया, लेकिन काफी देर इंतजार के बाद भी वाहन नहीं पहुंचा। परिजन दूसरा वाहन लाने के लिए इस बीच गर्भवती ने दम तोड़ दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here